link rel="alternate" href="http://gyangurutech.xyz/" hreflang="en-in" जानिए शिवलिंग का वास्तविक अर्थ क्या है और इसकी पूजा क्यों होती है | Gyan Guru Tech

जानिए शिवलिंग का वास्तविक अर्थ क्या है और इसकी पूजा क्यों होती है

SHIVLING KA RAHASYA

जानिए शिवलिंग का वास्तविक अर्थ क्या है और इसकी पूजा क्यों होती है


हिंदू धर्म के अंदर भगवान शिव की पूजा की जाती है. शिवलिंग के ऊपर दूध चढ़ाया जाता है. जिससे  लोगों की मनोकामना पूर्ण होती है.लेकिन शिवलिंग को लेकर हिंदू धर्म के अंदर कुछ लोगों ने भ्रम फैलाया हुआ है. कुछ लोगों ने यह भी कहा है कि हिंदुओं को कोई ज्ञान नहीं है. इसलिए वे शिवलिंग की पूजा करते हैं. ऐसे लोग शिवलिंग को शिवजी के गुप्तांग की संज्ञा देते हैं. हालांकि इस प्रकार का वर्णन किसी भी ग्रंथ में नहीं लिखा गया है.
इस प्रकार का भ्रम शब्दों के अर्थ और भाषा की जानकारी ना होने के कारण होता है. जिस प्रकार पुलिंग और स्त्रीलिंग शब्द मे अंतर् होता है. पुल्लिंग शब्द पुरुष का प्रतीक और स्त्रीलिंग शब्द स्त्री का प्रतीक माना जाता है. उसी प्रकार शिवलिंग को भी शिवजी का प्रतीक माना गया है. शिवलिंग का अर्थ आकाश, ब्रम्हांड और अनंत भी होता है. यदि आप संस्कृत भाषा पढ़ेंगे तो आपको पता चलेगा एक शब्द के कई अर्थ होते हैं.

जिस प्रकार हिंदी भाषा में सूत्र का अर्थ डोरी होता है. संस्कृत में इसका अर्थ गणित के सूत्र भी होता है. यदि आप अर्थ शब्द का विश्लेषण करें तो आपको पता चलेगा अर्थ शब्द को संपत्ति भी कहा जाता है और अर्थ शब्द को किसी बात का विश्लेषण करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

ऐसे ही योनि शब्द का अर्थ जन्म होता है और योनि शब्द को स्त्री के गुप्तांग को दर्शाने के लिए भी किया जाता है. एक शब्द के कई मतलब होते हैं. शिवलिंग का अर्थ अनंत  भी होता है. अनंत का मतलब ऐसी वस्तु जिसका कोई आदि और अंत ना हो.

दोस्तों आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो हमारी इस मेहनत के लिए पोस्ट को लाइक और शेयर जरूर करें और कमेंट करके अपनी राय जरूर दें.
SHARE

Suresh Kumar

दोस्तों मेरा नाम सुरेश कुमार है. मेरी इस वेबसाइट पर मैं अपने जीवन का हर एक अनुभव शेयर करता हूँ. मैं चाहता हूँ कि मेरे अनुभव का फायदा हर किसी को मिले. यदि आपको किसी बारे मे जानकारी है तो मुझे भी सिखायें. मै आपका आभारी रहूंगा.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment