link rel="alternate" href="http://gyangurutech.xyz/" hreflang="en-in" 18 साल की इस छात्रा ने मरते मरते कर दिया ऐसा काम कि लोग वर्षों याद करेंगे | Gyan Guru Tech

18 साल की इस छात्रा ने मरते मरते कर दिया ऐसा काम कि लोग वर्षों याद करेंगे

chandigarh/anju-dhiman-new-life-for-5-person-by-organ-transplant
image credit-amarujala.com

18 साल की इस छात्रा ने मरते मरते कर दिया ऐसा काम कि लोग वर्षों याद करेंगे

इस दुनिया में अच्छे लोग हमेशा याद किए जाते हैं. क्योंकि उनके द्वारा किए गए कामों से दूसरों की भलाई होती है. अच्छे लोग हमेशा दूसरों की मदद के लिए सदा तैयार रहते हैं. उनका यही जज्बा उन्हें दुनिया के सामने एक मिसाल बना देता है. आज हम आपके सामने एक ऐसी ही लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसने मरते मरते भी इतना अच्छा काम किया है कि लोग उसे वर्षों तक याद करेंगे. इस लड़की का नाम अंजू है. इसकी उम्र 18 साल की है. यह चंडीगढ़ के एक स्कूल में पढ़ रही थी. एक दिन सड़क हादसे में अंजू घायल हो गई. इलाज के लिए अंजू को चंडीगढ़ हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया.  डॉक्टरों ने बताया की सिर मे गहरी चोट लगने से इसका ब्रेन डेड हो चुका है.
anju dhiman donate her body parts
image credit-amarujala.com
उसकी माँ ने बताया की अंजू हमेशा दूसरों की सहायता करने के लिए तैयार रहती थी. जब वह छोटी थी तो अपने खिलौने दूसरों को दे दिया करती थी. माँ बाप को जब अपनी बेटी कि इस हालत का पता चला तो उसके पिता रमेश और माँ ममता ने बेटी के अंगों को डोनेट करने के लिए डॉक्टर को कहा. उनके अनुसार उनकी बेटी हमेशा दूसरों की सहायता करने के लिए तैयार रहती थी. उनकी बेटी के इसी जज्बे से प्रेरित होकर मां-बाप ने सोचा कि बेटी के अंगों को डोनेट करके ही इसकी आत्मा को शांति मिलेगी.

अंजू के दो कॉर्निया, दो किडनी और एक लीवर को हॉस्पिटल के मरीजो को डोनेट कर दिया गया. जिससे 5 लोगों की जान बच गई. अंजू के माता-पिता ने कहा कि हमें इस बात का दुख है कि हमारी बेटी आज हमारे बीच नहीं रही है.लेकिन हमें इस बात की संतुष्टि है कि हमारी बेटी के दिए गए अंगों से दूसरे लोगों को जीवन मिला है. हम यह चाहते हैं कि हमारी बेटी के अंग उन लोगों के शरीर में हमेशा काम करते रहे. जिससे हमारी बेटी मरने के बाद भी दुनिया मे जीवित रहे. उन्होंने कहा भले ही हमारी बेटी मर चुकी है. लेकिन मरते मरते भी उसने पांच लोगों के शरीर को अपना बना लिया है. माँ ने कहा की बेटी हमेशा दूसरों की मदद करती थी. आज भी मरते-मरते वह पांच लोगों की मदद करके उन्हें जीवनदान दे गई है. हमें अपनी बेटी पर गर्व है.

दोस्तों आपको अंजू के बारे में जानकर कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताएं. पोस्ट को लाइक और शेयर जरूर करें ताकि सभी लोगों तक यह जानकारी पहुंच सके.


SHARE

Suresh Kumar

दोस्तों मेरा नाम सुरेश कुमार है. मेरी इस वेबसाइट पर मैं अपने जीवन का हर एक अनुभव शेयर करता हूँ. मैं चाहता हूँ कि मेरे अनुभव का फायदा हर किसी को मिले. यदि आपको किसी बारे मे जानकारी है तो मुझे भी सिखायें. मै आपका आभारी रहूंगा.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment